दिवाली सन्डे को, स्टाफ ने मिठाई के बदले छुट्टी माँगी

रविवार को दिवाली पड़ने के कारण ऑफिस में काम करने वाले कई स्टाफ में असंतोष का ग्राफ आसमान को छूता नजर आ रहा था.  कुछ ने तो यहाँ तक कह दिया की ये दिवाली किसी और दिन को नहीं पड़ सकती थी क्या, खामखां हमारा सन्डे ख़राब कर दिया.

“ये दिवाली सन 2013 में भी रविवार को पड़ गयी थी और हमारी एक छुट्टी ख़राब हो गयी थी.” सरकारी नौकरी के कॉम्पिटिशन की तैयारी करने वाले एक स्टाफ ने अपना GK (जनरल नॉलेज) बघारा ही था की राजनितिक सोंच रखने वाले दुसरे स्टाफ ने अपनी राय रख दी, “2013 में कांग्रेस की सरकार थी और 2016 में बीजेपी की सरकार है. इस हिसाब से मुझे तो दोनों सरकारों में कोई अंतर नजर नहीं आता”.  उनकी ये राय सुन कर अधिकांश लोग चुप ही रहे, मगर एक बाला से चुप नहीं रहा गया, वो बोल पड़ी, ‘आप’ तो चुप ही रहिये. अपनी राजनितिक राय रखने वाला सहकर्मी चुप ही हो गया.

सारे स्टाफ ने सोंच समझ कर अपनी बात बॉस के पास रखने का प्रोग्राम बनाया. सारे पहुँच गये बॉस के केबिन में. सभी लोगो को एक साथ आया देख कर बॉस आश्चर्यचकित हो गया, उसके चेहरे के भावों को देख कर लग रहा था की वो अपने मन में सोंच रहा है, सारे लोग एक साथ क्यों आ गये? अब क्या कर दिया है मैंने?

केबिन में अपनी बात बॉस को बताने के लिए एक बन्दे ने दुसरे बन्दे का नाम लेकर बोला, “सर ये आपसे कुछ कहना चाहता है.”

“मैं नहीं, वो आपसे कुछ कहना चाहता है.” दुसरे बन्दे ने तीसरे बन्दे का नाम लिया.

अब तीसरे बन्दे ने पहले बन्दे का नाम लेकर बोला, “सर, ये बोल रहा था की अगर दिवाली रविवार को है तो हमे उसके बदले शनिवार को छुट्टी मिल सकती है?”

इस पर पहला बंदा बोला, “सर, पुरे दिन की छुट्टी संभव नहीं हो तो आधे दिन की छुट्टी भी चलेगी”

इस पर दुसरे बन्दे ने कहा, “सर, मिठाई के डब्बे में मिठाई के बदले एक दिन की छुट्टी ही दे दीजिये”

बॉस ने तीनों बन्दों की बात सुन कर, बाकी के लोगो की तरफ देख कर बोला, “इनमे से कुछ भी संभव नहीं है. हाँ जिनके शोर्ट लीव बचे हों वो अपने शोर्ट लिव का प्रयोग कर के एक घंटे पहले घर जा सकते हैं.”

बॉस के इतना कहते हैं, सभी के चेहरे, जिनपर छुट्टी नहीं मिलाने की वजह से उदासी छायी हुई है, ख़ुशी से खिल उठे. सभी लोगो के शोर्ट लिव जस के तस बचे हुए थे.

 

 

 

 

 

 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
(Visited 70 times, 1 visits today)