बारिश के बाद दिल्ली के सडक बने तालाब, घर के एक्वेरियम में कैद मछली सड़को पर आज़ादी का जश्न मनाने निकल पड़ी

कल जब पूरा देश ने आज़ादी का 70 जश्न मना रहा था की दिल्ली के कई घरो से मछलियाँ आज़ाद हो कर सड़को पर अपने आज़ादी का जश्न मनाने लगी. जिसे देखने के लिए लोगो को भारी भीड़ उमड़ पड़ी और सड़को पर कई घंटो का जाम लग गया.

खबर की पड़ताल करने पर पता लगा की आज़ादी के इतने सालों बाद भी दिल्ली के कई घरों की अक्वेरियमो में ढेर सारी मछलियाँ गुलाम हैं और कैदियों जैसा जीवन बिताने को मजबूर है. मगर उनमे से कुछ मछलियाँ कल अपनी गुलामी की बेड़ियाँ तोड़ कर दिल्ली की सड़को पर निकल पड़ी और सबसे बढ़िया बात ये भी थी की कल ही भारत अपना स्वतंत्रता दिवस भी मन रहा था.

मछलियों ने जब सड़क के खुले पानी में सांस लिया तो उनकी प्रसन्नता की कोई सीमा नहीं रही. लेकिन पहली बार घर से बाहर निकलने के कारण उन्हें बिलकुल पता नहीं था की वो किनका शुक्रिया अदा करें, जिनके कारण बारिश का पानी नालों ने बह जाने के बजाय, सडको पर उन्हें इतना सारा पानी नसीब हुआ. इस पर एक बुजुर्ग मछली ने कहा की बारिश तो इंद्रा देवता करवाते हैं, हमें उनका शुक्रिया अदा करना चाहिए. तब सारी मछलियों ने इंद्र देवता का शुक्रिया अदा किया की उम्होने मुसलाधार बारिश किया था, जिसके कारण दिल्ली की सड़को पर पानी जमा होकर तालाब का शक्ल अख्तियार कर लिया था.

मछलियों को इस तरह सड़क पर खुलेआम जश्न मानते देख कर, कुछ उदार हृदय दिल्ली निवासियों ने अपनी अपनी मछलियों को सड़को पर टहलाने निकल पड़े ताकी वे भी खुली पानी में सांस ले सके,  इस पर उदार ह्रदय दिल्ली वासिओं का विरोध करने वाले उनुसार ह्रदय वालों ने आरोप लगाया है की ये लोग अपनी मछलियों को घुमाने या टहलाने इस लिए लेकर गए थे ताकी उनकी मछलियाँ विद्रोल ना कर दे.

 

 

 


Image Copied from Internet.
ये एक काल्पनिक खबर है, इसका उद्देश्य मात्र मनोरंजन है .
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
(Visited 64 times, 1 visits today)